google-site-verification=V6YanA96_ADZE68DvR41njjZ1M_MY-sMoo56G9Jd2Mk What is Unfair Means in Exam? - Satyam Education

What is Unfair Means in Exam?

1.परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग क्या हैं?(What is Unfair Means in Exam?)-

What is Unfair Means in Exam?
What is Unfair Means in Exam?
  • वर्तमान काल में शिक्षा प्रणाली परीक्षा केन्द्रित व डिग्री हासिल करने वाली हो गई है।शिक्षा का उद्देश्य नौकरी प्राप्त करने से जोड़ लिया गया है और नौकरी के लिए डिग्री की आवश्यकता है तो स्वाभाविक है कि विद्यार्थी येन केन प्रकारेण डिग्री हासिल करना चाहते हैं।
  • नौकरी (सरकारी) प्राप्त करने के पीछे अधिकांश युवाओं का मकसद है कि वेतन अधिकतम मिलता है और काम कम करना पड़ता है।छुट्टियां खूब मिल जाती है।7 घंटे की सर्विस है।सरकारी जाॅब को सेवा करने के उद्देश्य से बहुत कम युवा चुनते हैं।
  • सरकारी नौकरी प्राप्त की जा सके इसके लिए माता-पिता तथा अभिभावक बच्चों की हर फरमाइश पूरी करने की कोशिश करते हैं।बालकों को शिक्षा अर्जित करते समय जब अधिक से अधिक सुविधाएं दी जाती है तो बालक-बालिकाएं ओर अधिक सुविधाओं की मांग करने लगते हैं जिससे बालकों की सुविधा भोगी प्रवृत्ति होती जाती है।धीरे-धीरे बालक परिश्रम करने से जी चुराने लगता है। सरकारी नौकरी में परिश्रम नहीं करना पड़ता है।
  • बालक जब देखते हैं कि नौकरियों के लिए डिग्री की आवश्यकता होती है और डिग्री प्राप्त करने के लिए उनमें परिश्रम का अभाव पाया जाता है तो वे डिग्री हासिल करने के लिए अनुचित साधनों का प्रयोग करते हैं।
  • परीक्षा पास करने के लिए अनुचित साधनों का प्रयोग करते हैं।अनुचित साधनों में शामिल है साथी-विद्यार्थियों की कॉपी से नकल करना,परीक्षा प्रश्न-पत्र प्राप्त करने की तिकड़म भिड़ाना,अपने स्थान पर किसी अन्य विद्यार्थी को बिठाकर परीक्षा दिलाना,शिक्षकों तथा प्रधानाध्यापकों को डराना धमकाना,नकल करने हेतु पर्चिया तैयार करके ले जाना, अपने अन्य साथियों से नकल करने हेतु पुस्तक परीक्षा केंद्रों पर मंगवाना।
  • ऐसे अनुचित साधनों का प्रयोग करना अपराध है तथा बच्चों को उक्त कार्य में लिप्त पाए जाने पर परीक्षा से वंचित करना,आगामी वर्षों में परीक्षा देने पर रोक लगाना तथा सजा के प्रावधान है जिससे बालकों का भविष्य चौपट हो सकता है।सामाजिक रूप से माता-पिता,अभिभावक तथा बालकों की निंदा होती है।
  • बालक शुरू से भोले-भाले तथा अबोध होते हैं परंतु अभिभावकों व शिक्षकों की उदासीनता, बालकों में असफल होने के कारण अनुचित साधनों का प्रयोग करने लगते हैं। यदि उन्हें समझाया जाए की परीक्षा में फेल होने से ज्यादा नुकसानदायक परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग करना है।परीक्षा में फेल होने से केवल एक साल बर्बाद होता है जबकि परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग करने तथा पकड़े जाने पर भविष्य खराब होता है तथा सामाजिक रूप से निन्दा होती है सो अलग।

  • जो बालक परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग करते हैं उनमें धीरे-धीरे अन्य बुराइयां भी प्रवेश करती जाती है।जैसे धोखाधड़ी,बेईमानी,चोरी करना,झूठ बोलना,चालाकी करना इत्यादि।कोई समय था जब प्रमाण-पत्र के आधार पर नौकरी मिल जाती थी परन्तु आज समय यह है कि प्रमाण-पत्र के साथ कड़ी प्रतिस्पर्धा से गुजरना होता है। इसलिए योग्यता नहीं है तो केवल डिग्री या प्रमाण पत्र के आधार पर नौकरी हासिल नहीं की जा सकती है।अब नौकरी तथा निजी व्यवसाय दोनों में कड़ी प्रतिस्पर्धा का सामना करना होता है।इसलिए कर्मठ व्यक्ति ही सफलता अर्जित कर सकता है।अतः गलत तरीके अपनाना स्वयं के साथ-साथ,अभिभावकों तथा लोगों के साथ विश्वासघात करना है।इसलिए सही मायने में पुरुषार्थ तथा ज्ञान-सम्पदा ही असली योग्यता है।
  • बालकों को पढ़ाना आवश्यक है इसका अर्थ यह कदापि नहीं कि उनको अनुचित साधनों से परीक्षा पास करने हेतु प्रोत्साहित किया जाए।इसके बजाय यथार्थ स्थिति को समझते हुए उन्हें परिश्रम करने हेतु प्रोत्साहित किया जाए। यदि परीक्षा में बालक सफल नहीं हो पाता है और हमारा अनुमान है कि परीक्षा पास करना व पढ़ना-लिखना बालक के वश में नहीं है तो उन्हें कोई हुनर सिखाना चाहिए।बालकों को येन-केन प्रकारेण पढ़ाना और पैसा खर्च करना व्यर्थ है। परीक्षा में उत्तीर्ण होने की महत्वाकांक्षा बालक की होती है तथा अभिभावक भी चाहते हैं कि बालक अच्छे अंको से उत्तीर्ण हो परंतु अनुचित साधनों का प्रयोग करके उत्तीर्ण होना बुद्धिमता नहीं है।
  • अभिभावकों को चाहिए कि अनुचित साधनों का प्रयोग करने के बजाय उनको परिश्रमपूर्वक परीक्षा उत्तीर्ण करने में सहायक बने।वस्तुतः विद्या अध्ययन करना एक प्रकार का योगाभ्यास है।उसमें छल-कपट का प्रयोग करना तो महान संभावनाओं से अपने आप को वंचित करना है,योग भ्रष्ट होना है।अपने पतन का मार्ग चुनना है।
  • इस आर्टिकल में परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग क्या हैं? (What is Unfair Means in Exam?) के बारे में बताया गया है।

Also Read This Article-How to develop good qualities by education?

What is Unfair Means in Exam?
What is Unfair Means in Exam?

2.परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग क्या हैं? (What is Unfair Means in Exam?) में अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न-

Q:1.परीक्षा में अनुचित साधनों का उपयोग करने के बारे में छात्रों को क्या लगता है? (What do students feel about using unfair means in examination?)
उत्तर-अनफेयर मीन्स के लिए स्टूडेंट्स रिजॉर्ट क्यों? असफलता का डर: कुछ छात्रों द्वारा परीक्षा में धोखा देने का सबसे बड़ा कारण डर है। कुछ 'छात्र परीक्षा में असफल होने पर बहुत सारी समस्याओं का अनुमान लगाते हैं। उनके माता-पिता के डर से उनके माता-पिता खराब ग्रेड, उनके दोस्तों का मजाक उड़ाते हैं और भविष्य में एक संभावित अंधेरा भी हो सकता है।
Q:2.अच्छी क्यों नहीं होती? (Why are exams not good?)
उत्तर-परीक्षा एक धमकी भरा शब्द है। इससे छात्रों को मानसिक तनाव होता है। परीक्षा के डर से ग्रामीण क्षेत्रों में कई छात्र स्कूल जाने में अपनी रुचि खो देते हैं या अपनी पढ़ाई छोड़ देते हैं जिसके परिणामस्वरूप पढ़ाई छूट जाती है। परीक्षा सीखने की भावना को मार देती है।
Q:3.परीक्षा का कारण क्या है? (What is the reason for exams?)
उत्तर-परीक्षा और परीक्षण यह आकलन करने का एक शानदार तरीका है कि छात्रों ने विशेष विषयों के संबंध में क्या सीखा है। परीक्षा में दिखाया जाएगा कि प्रत्येक छात्र ने किस पाठ का सबसे अधिक रुचि लिया है और याद किया है।है।
Q:4.परीक्षा में अनुचित का अर्थ हिंदी में (unfair means in examination meaning in hindi)
उत्तर-एक अभ्यर्थी अनुचित साधनों का उपयोग करते हुए या अव्यवस्थित आचरण या अन्य को परेशान करते हुए पाया गया। उम्मीदवारों, एक परीक्षा के संबंध में या अनफेयर साधनों को संदर्भित किया जाएगा।मामले के विचार के बाद समिति ने इसे संदर्भित किया। प्रशिक्षक / अन्वेषक सजा दे सकता है।
Q:5.परीक्षा में अनुचित साधनों का उपयोग करने के कारण (reasons for using unfair means in examination)
उत्तर-असफलता का डर: कुछ छात्रों द्वारा परीक्षा में धोखा देने का सबसे बड़ा कारण डर है।क्षमता की कमी: कुछ छात्र ऐसे होते हैं जिनके पास परीक्षा की चुनौती लेने की क्षमता नहीं होती है।रुचि की कमी: कुछ छात्रों को पढ़ाई में कोई दिलचस्पी नहीं है।
Q:6.परीक्षा में अनुचित साधनों के कारण और प्रभाव (causes and effects of unfair means in examination)
उत्तर-परीक्षाओं में इस नकल के पीछे कई कारण हैं। इनमें से कुछ दोषपूर्ण परीक्षा प्रणाली, छात्र राजनीति, अनुपयुक्त पाठ्यक्रम, योग्य शिक्षकों की कमी, शिक्षकों की बेईमानी, शिक्षण वातावरण की कमी, जन जागरूकता की कमी आदि हैं। कई शिक्षक छात्रों को ठीक से नहीं पढ़ा सकते हैं।
Q:7.अनुचित का अर्थ (meaning of unfair means)
उत्तर-समानता और न्याय के सिद्धांतों के अनुसार पर आधारित या व्यवहार नहीं।"कई बार इस तरह की कानूनी व्यवस्था अमानवीय और अनुचित प्रतीत होती है"
इन प्रश्नों के उत्तर द्वारा परीक्षा में अनुचित साधनों का प्रयोग क्या हैं? (What is Unfair Means in Exam?) के बारे में जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।
Also Read This Article-How to provide quality education to child?
No. Social Media Url
1. Facebook click here
2. you tube click here
3. Instagram click here
4. Linkedin click here
5. Facebook Page click here
WhatsApp

About Satyam Education

अपने बारे में:मैं सत्यम एजुकेशन वेबसाइट का मालिक हूं।मैं मनोहरपुर जिला-जयपुर (राजस्थान) भारत पिन कोड -303104 से सत्य नारायण कुमावत हूं।मेरी योग्यता -बी.एससी,बीएड है.मैंने एमएससी के बारे में पढ़ा है।किताबें:मनोविज्ञान,दर्शन,आध्यात्मिक,वैदिक,धार्मिक,योग,स्वास्थ्य और कई अन्य ज्ञानवर्धक पुस्तकें पढी हैं।मुझे M.sc,एम.कॉम.,अंग्रेजी और विज्ञान तक लगभग 15 वर्षों का शिक्षण अनुभव है। (About my self I am owner of Satyam Education website.I am satya narain kumawat from manoharpur district-jaipur (Rajasthan) India pin code-303104.My qualification -B.SC. B.ed. I have read about m.sc. books,psychology,philosophy,spiritual, vedic,religious,yoga,health and different many knowledgeable books.I have about 15 years teaching experience upto M.sc. ,M.com.,English and science.)

0 Comments:

Post a Comment

Please do not enter any spam link in the comment box.